Welcome to ICDS Digital E-Repository "www.esanchayika.in"
Note: This Web Portal is Under Construction!
ई-रिपोजिटरी(ई-संचयिका)>> ई-चर्चा>> ब्लॉग... Back
स्वस्थ बचपन, बेहतर भविष्य राह दिखाती आँगनवाड़ी
Pushplata Singh IAS, Commissioner, ICDS MP
15 Jun 2017 18 10 34
Anganwadi Services
 समेकित बाल विकास सेवा योजना के अन्तर्गत प्रदेश के सभी गांव और मजरों-टोलों में लगभग 97 हजार आँगनबाड़ी केन्द्र और मिनी आँगनबाड़ी केन्द्र संचालित हो रहे हैं। आँगनबाड़ी केन्द्रों में लाखों हितग्राहियों को सभी सेवाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं | हमारा लक्ष्य शत-प्रतिशत हितग्राहियों को लाभांवित करने का है, इसीलिये प्रतिवर्ष पूरे प्रदेश में ‘आँगनवाड़ी चलो अभियान’ चलाया जाता है। इसका चतुर्थ चरण दिनांक 15 से 30 जून, 2017 के दौरान उत्सव के रूप में पूरे प्रदेश में चलाया जा रहा है, ताकि समुदाय इसकी उपयोगिता एवं प्रभाविता को समझ सके।

बच्चों-महिलाओं केे कुछ बुनियादी अधिकारों जैसे जीने और विकास का अधिकार, सुरक्षा का अधिकार, सहभागिता का अधिकार, भोजन का अधिकार आदि के लिए सरकार कई योजनाएं चलाती है। इनमें शिशुओं और माताओं की स्वास्थ्य जाँच, पूरक पोषण आहार, टीकाकरण जैसी सुविधाएं देती हैं। इन सभी योजनाओं के लिए हमारी आँगनवाड़ी एक महत्वूर्ण कड़ी के रूप में काम करती है। समस्त सरकारी कार्यक्रमों को गाँव-गाँव तक पहुंचाने में कहीं न कहीं आँगनवाड़ी की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

आँगनवाड़ी मतलब ऐसी जगह जहाँ छह साल तक की उम्र वाले बच्चों, गर्भवती एवं शिशुवती महिलाओं और किशोरियों को पूरक पोषण आहार, स्वास्थ्य संबंधी प्राथमिक जरुरतें आदि एक ही जगह मिलें। बच्चों को स्कूल से पहले की शिक्षा भी मिले।

आप जानते ही हैं कि जीवन के प्रारम्भिक पाँच वर्ष बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। इस समय बच्चे का मानसिक एवं शारीरिक विकास तेजी से होता है। इसी दौरान यदि बच्चे को कोई बीमारी या कमजोरी हो जाती है, तो उसकी भरपाई पूरे जीवन भर की जाना असम्भव होता है। कई बच्चे कमजोर यानी कुपोषित होते हैं। ऐसा इस कारण है कि उन्हें पर्याप्त और संतुलित पोषण नहीं मिल पाता। इसलिए जीवन के महत्वपूर्ण वर्षो में बच्चों की पूरी देखभाल एवं समग्र विकास की जिम्मेदारी आँगनवाड़ी केन्द्र निभाते हैं।

आई.सी.डी.एस.कार्यक्रम में बच्चों के बेहतर पोषण पर विशेष ध्यान दिया जाता है। इसके लिए गर्भवती की उचित देखभाल हेतु परामर्श, पोषण आहार, आय.वाय.सी.एफ. के निर्देशों हेतु परामर्श, बच्चों का नियमित वजन, वृद्धि निगरानी की जाती है। बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए खेल खेल में शिक्षा, विकास माइलस्टोन अनुसार निगरानी की की जाती है।

विगत वर्ष चलाये गये अभियान में सशक्त जनभागीदारी रही है जो कि इस दिशा में सकारात्मक परिणाम है। इस वर्ष भी अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन से जनसमुदाय में आँगनवाड़ी की सेवाओं की उपयोगिता स्थापित हो सकेगी और उनकी भागीदारी सुनिशिचत हो सकेगी।
Blog Control Id: 33
12345678910

 
 
Hits Counter:  407789 
आईसीडीएस मध्यप्रदेश (भारत)  द्वारा निर्मित एवं संचालित |  निर्मित एवं संचालित |  Copyrights © 2015-2017, All Rights Reserved by ICDS MP (India)